Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
बारिश की लुका छुपी के बीच भारत और इंग्लैंड के बीच लॉर्ड्स मैदान पर खेले जा रहे दूसरे टेस्ट मैच का दूसरा दिन किसी तरह शुरू हुआ और मेजबान टीम के गेंदबाजों खासकर जेम्स एंडरसन ने पिच से मिल रही मदद का भरपूर फायदा उठाते हुए भारत को आधे दिन के खेल में ही समटे दिया। दूसरे दिन शुक्रवार को सिर्फ 35.2 ओवरों का खेल हो सका जिसमें भारतीय टीम अपनी पहली पारी में 107 पनों पर ही ढेर हो गई। मैच का पहला दिन बारिश की भेंट चढ़ गया था और बिना एक भी गेंद फेंके रद्द कर दिया गया था।
एंडरसन ने 20 रन देकर पांच विकेट लिए। क्रिस वोक्स को दो सफलताएं मिलीं। स्टुअर्ट ब्रॉड और सैम कुरैन को एक-एक विकेट मिला। इस मैच में सब कुछ इंग्लैंड के पक्ष में हुआ सिवाए फील्डिंग के। इंग्लैंड के फील्डर अगर आए मौकों को लपक लेते तो भारत पहले ही पवेलियन लौट गया होता और इंग्लैंड अपनी पहली पारी में कुछ रन बनाकर दिन का समापन करता। भारत की तरफ से रविचंद्रन अश्विन ने सबसे ज्यादा 29 रन बनाए।
दूसरे दिन ही मैच का टॉस हुआ जिसे इंग्लैंड के कप्तान जोए रूट ने जीता और भारत को बल्लेबाजी के लिए आमंत्रित किया। स्थिति गेंदबाजों के लिए बिल्कुल मुफीद थीं। गेंद अच्छी तरह स्विंग कर रही थी। ऐसी ही स्विंग लेती एंडरसन की एक खूबसरत गेंद पारी के पहले ओवर में मुरली विजय के स्टम्प उड़ा दिए। मुरली पहले ओवर की पांचवीं गेंद पर बिना खाता खोले पवेलियन लौटे। एंडरसन और ब्रॉड की स्विंग लेती गेंदों को खेलना भारतीय बल्लेबाजों के लिए मुश्किल हो रहा था। लोकेश राहुल (8) भी एंडरसन की स्विंग को समझ नहीं पाए और गेंद उनके बल्ले का बेहद बारीक किनारा लेकर विकेटकीपर जॉनी बेर्यर्सटो के दस्तानों में समा गई।
स्कोर 6.3 ओवरों में दो विकेट के नुकसान पर 11 रन था। तभी बारिश आ गई और खेल रोका गया। कुछ देर बाद जब मैच दोबारा शुरू हुआ तो विराट कोहली और चेतेश्वर पुजारा (1) के बीच हुई गलतफहमी में पुजारा को रन आउट होकर पवेलियन लौटना पड़ा।
कुछ देर बाद दोबारा शुरू हुई बारिश काफी देर बाद थमी। हालांकि अब मैदान पर धूप थी और गेंद भी ज्यादा स्विंग नहीं कर रही थी। कोहली और रहाणे आसानी से खेल रहे थे, लेकिन थोड़े समय बाद मौसम ने करवट ली और गेंद फिर हरकतें करने लगी।
इसी बीच ब्रॉड की गेंद पर रूट ने रहाणे का कैच छोड़ दिया। 20वें ओवर में दो बार गेंद ने कोहली के बल्ले का बाहरी किनारा लिया, लेकिन स्लिप पर खड़े फील्डर के हाथों तक नहीं पहुंची। 22वें ओवर में एक बार फिर वोक्स की गेंद ने कोहली के बल्ले का किनारा लिया और इस बार जोस बटलर ने उनका कैच छोड़ दिया। भारतीय कप्तान को कई बार जीवनदान मिला लेकिन वह इसका फायदा नहीं उठा पाए और अगली ही गेंद पर बटलर ने कैच छोड़ने की गलती नहीं की। भारतीय कप्तान 57 गेंदों में दो चौकों की मदद से 23 रन बनाकर पवेलियन लौटे।
यहां से भारतीय पारी लड़खड़ा गई। वोक्स की ही गेंद पर बटलर ने हार्दिक पांड्या (11) कैच लपका। सैम कुरैन की बेहतरीन गेंद दिनेश कार्तिक (1) को 62 के कुल स्कोर पर बोल्ड कर गई।
रहाणे विकेट पर थे और उनसे काफी उम्मीदें थीं, लेकिन 84 के कुल स्कोर पर एंडरसन और कुक की जोड़ी ने रहाणे की 44 गेंदों में 18 रनों का पारी का अंत कर दिया जिसमें दो चौके शामिल थे। कुलदीप यादव को एंडरसन ने खाता नहीं खोलने दिया। अश्विन की पारी का अंत ब्रॉड ने 96 के कुल स्कोर पर किया। उन्होंने 38 गेंदों की पारी में चार चौके लगाए।
10 रनों पर नाबाद रहने वाले मोहम्मद शमी ने भारत को 100 के पार पहुंचा। एंडरसन ने ईशांत शर्मा को आउट कर अपने पांच विकेट पूरे किए और भारतीय पारी समाप्त की।
Inputs: IANS
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.