Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
15 अगस्त 1947 वो दिन जब हमारे देश को आज़ादी मिली, हर तरह से एक नई सुबह की शुरुआत, करीब 35 करोड़ भारतीयों ने ये खास दिन देखा था। आगे जाने का सपना,आज़ादी का सपना। दुनिया को चुनोती देने का सपना और फिर से विश्व गुरु बन सोने की चिड़िया कहलाने का सपना। आपको ये जानकर हैरानी होगी की जिस दिन भारत आज़ाद हुआ उस दिन डॉलर और रुपया दोनों की ताक़त बराबर थी। यही 1 डॉलर 1 रुपए के बराबर था। आज आज़ादी के 71 साल बाद 1 डॉलर खरीदने में आपको करीब 68 रुपए देना होंगे। बस इस दूरी ने ही देश में कई दिक्कते पैदा कर दी। खैर कोशिश और दावे जारी भी है।
खैर जब हम हर तरफ आज़ादी की खुशी में डूबे हुए ही है। तब क्यों न इसे एहसास ही कर लिया जाए की अगर आज भी हमारा रुपया डॉलर के बराबर मज़बूत होता तो आज कैसी ज़िंदगी होती।अगर आज भी 15 अगस्त 1947 की तरह हमारा रुपया डॉलर के बराबर होता तो आज देश में एक तरफ तो गरीबी और भुखमरी नही होती। दुनिया मे भारत सबको चुनोती देता और भारत की विभिन्नता में एकता होने की वजह से पूरी दुनिया यहाँ अपना विश्व व्यापार केंद्र बना लेती।
बड़े बड़े कीमती ब्रांड जैसे एप्पल का आई फ़ोन ,सैमसंग ,एलजी विदेशी ब्राण्ड आज हज़ारों ओर लाखों के नही बल्कि 600-700 रुपए में ही मिल जाते।विदेश की तकनीक हमारी जेब मे होती। हर देश हमारी मुद्रा के लिए प्रतीक्षा कर रहा होता। हमारे नागरिकों को हर देश विशेष यात्री की सहुकत देता और हमारी मुद्रा देने का आह्वान करता। जो सेवाएं या वस्तु हमारे देश मे नही पाई जाती जैसे पेट्रोल डीजल आदि ये सब आज 1-2 रुपए में मिलते।हर तरफ हमारी मुद्रा का सामान तो हमारे नागरिकों के सामान रहता।
खैर अब देश आजाद है। वो काला पानी की सज़ा देने वाले, वो कोड़े मारने वाले फिरंगी अब चले गए है और हमने उनको 71 साल पीछे धकेल दिया है। लेकिन आज़ादी का असली चेहरा क्या सिर्फ यही है या अभी आना बाकी है अगर हां तो और कितने 71 साल लगेंगे जब हम सुनेंगे की हमारे देश में कुपोषित बच्चे नही है। भूख से कोई मरा नही है। किसान ने कर्ज़ के चलते आत्महत्या नही की है और युवाओं को खूब रोज़गार मिलने लगा है।
बस और कितने 71 साल ये पूछकर एक 80 साल का बुज़ुर्ग शख्स भी अपनी आंखों में एक नई सुबह वो आज़ादी वाली सुबह देखने की आस रखता है और सोचता है कि वो वह नही देख सकता जो शायद आने वाली पीढ़ी कुछ ऐसा देख ले।ऐसी रोचक और अनोखी न्यूज़ स्टोरीज़ के लिए गूगल स्टोर से डाउनलोड करें Lopscoop एप, वो भी फ़्री में और कमाएं ढेरों कैश वो भी आसानी से
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.