Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
साउथ फिल्म इंडस्ट्री के स्टार महेश बाबू को आज के समय में कौन नहीं जानता, साउथ ही नहीं देश के अन्य हिस्सों में महेश बाबू के चाहने वालों की कमीं नहीं है। महेश बाबू के फैन्स लम्बे समय से उनके बॉलीवुड डेब्यू का इंतजार कर रहे हैं। लेकिन उनकी पत्नी नम्रता शिरोडकर ने उनके फैन्स का दिल यह कहकर तोड़ दिया कि महेश बाबू का फिलहाल बॉलीवुड में आने का कोई इरादा नहीं है।
महेश बाबू की बेरुख़ी की वजह कहीं बॉलीवुड का इतिहास तो नही....? साउथ के कलाकारों और बॉलीवुड के रिश्ते के इतिहास पर अगर नज़र डालें तो एक अजीब-ओ-ग़रीब ट्रेंड देखने को मिलता है। साउथ से कई सुपरस्टार्स ने बॉलीवुड में कदम रखा और लगभग सभी ने अपनी पहली हिट फ़िल्म भी दी इसके बावजूद उनके पैर बॉलीवुड में जम नहीं सके। इनमें कमल हासन और रजनीकांत जैसे एक्टर्स शामिल हैं।
अगर बात साउथ की हिरोइनों की करें तो उन्होंने साउथ के अभिनेताओं की तुलना में बॉलीवुड में न सिर्फ़ नाम कमाया है बल्कि राज किया है।
वैजयंती माला, वहीदा रहमान से लेकर श्रीदेवी तक जितनी भी अभिनेत्रियों ने बॉलीवुड में कदम रखा, उन्होंने हिन्दी फिल्म दर्शकों के दिलों पर राज किया।
इनमें वैजयंती माला और श्रीदेवी के अलावा रेखा, हेमा मालिनी, ऐश्वर्या राय, विद्या बालन, दीपिका पादुकोण, इलियाना डिक्रूज और तापसी पन्नू शामिल हैं।
लेकिन बात जब साउथ के सुपरस्टार्स की आती है तो बॉलीवुड के ज़रिये वे हिंदी फ़िल्म दर्शकों के आंखों में जादू बनकर तो रहे मगर चल नहीं सके।
क्या आपने कभी सोचा है साउथ की हिरोइनों ने तो बॉलीवुड पर राज किया, लेकिन वो कौन-सी वजह है जिसके वजह से साउथ के सुपरस्टार्स बॉलीवुड में फेल हो गए। जब हमने बॉलीवुड के जाने-माने फिल्म निर्माता और फिल्म समीक्षक जय प्रकाश चौकसे से इस बारे में सवाल किया, तो उनका जवाब कुछ ऐसा था....
“दक्षिण भारत के हर घर और परिवार में कन्याओं को भरतनाट्यम की शिक्षा दी जाती है। भरतनाट्यम दक्षिण भारत के स्कूलों में पाठ्यक्रम की तरह होता है। भरतनाट्यम केवल एक नृत्य नहीं है बल्कि इसे करते हुए चेहरे पर कई तरह के भाव दिखाने पड़ते हैं। इसमें नृत्य के माध्यम से एक पूरी की पूरी कथा प्रकट की जाती है। दक्षिण भारत में लड़कियों को छोटी उम्र से ही भरतनाट्यम सिखा दिया जाता है। वहीं बॉलीवुड में एक्सप्रेशन और डांस की सबसे ज्यादा मांग होती है, ये आपके बॉलीवुड करियर के लिए काफी फायदेमंद साबित होता है।”
क्यों अच्छे-खासे भाव के साथ अभिनेता बॉलीवुड में हो जाते हैं फेल?
इसका जवाब देते हुए उन्होंने कहा, “नीरज चौधरी ने अपनी किताब में लिखा है कि भारतवर्ष के लोगों को गोरा रंग, नदियां और तमाशे की तरफ ज्यादा आकर्षण होता है। वहीं बात करें, साउथ के अभिनेताओं की तो वह रंग-रूप में ज्यादा गोरे-चिटे नहीं होते हैं, इस वजह से भी वह बॉलीवुड में अपना नाम उतना नहीं कमा पाते। लेकिन जो साउथ की लड़कियां है वह रंग-रूप में भी सुंदर व बचपन से भरतनाट्यम सिखने की वजह से हाव-भाव में भी ज्यादा बेहतर होती हैं।”
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.